Yearender 2021: The Year 2021 Will Be Remembered For These Reasons, Know 10 Big Events Of The Country From Politics To Entertainment

0
6


Goodbye 2021: नया साल शुरू होने में अब कुछ ही समय बाकी है. ऐसे मौके पर पूरी दुनिया साल 2021 को सेलिब्रेट कर रही है और आने वाले साल के स्वागत की तैयारियों में लगी है. साल 2021 खत्म होने के साथ कई खट्टी-मीठी यादें छोड़ रहा है, इन यादों को भुलाया नहीं जा सकता. हालांकि ये साल कोरोना महामारी (Corona Pandamic)  की दूसरी लहर (Second Wave) और किसान आंदोलन जैसी घटनाओं की वजह से काफी याद किया जाएगा. इसके अलावा साल 2021 कुछ बड़े राजनीतिक घटनाक्रमों का भी गवाह रहा. 

आइए जानते हैं कि इस साल को याद रखने के लिए ऐसी ही बड़ी घटनाओं के बारे में- 

बंगाल चुनाव और वहां भड़की हिंसा

ऐसे तो इस साल कई अहम राजनीतिक घटना घटी है लेकिन पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections) को भूला नहीं जा सकता. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की शिकस्त इस साल की प्रमुख राजनीतिक घटना मानी जा सकती है. पश्चिम बंगाल में हुए विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने लगातार तीसरी बार जीत हासिल की है. हालांकि चुनाव के नतीजे के बाद और ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस के सत्ता में लौटने के बाद राज्य में हिंसा भड़क गई थी. विपक्ष का मानना है कि इसके पीछे सत्ताधारी पार्टी का हाथ था. जबकि TMC ने कहा कि यह विपक्ष की साजिश थी ताकि पार्टी की छवी खराब की जा सके. 

गणतंत्र दिवस के मौके पर किसानों की हिंसा

पिछले एक साल से कृषि कानूनों के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों ने 26 जनवरी 2021 को ट्रैक्टर मार्च निकाला था. लेकिन इस मार्च के दौरान ही हिंसा भड़क गई. प्रदर्शन के दौरान मार्च कर रहे प्रदर्शनकारी इतने हिंसक हो गए कि उन्होंने पुलिस बेरिकेडिंग तोड़ दी और लाल किले के प्राचीर पर पहुंच वहां धार्मिक झंडा फहरा दिया. 

कोविड की दूसरी लहर और ऑक्सीजन संकट

कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave Of Corona) का दौर काफी मुश्किल भरा रहा. दूसरे वेव (Second Wave) के दौरान कई लोग संक्रमित हो रहे गए और सांस लेने में तकलीफ के कारण अस्पताल में भर्ती हो रहे थे. अस्पताल के बाहर मरीजों की कतार का वो मंजर शायद ही कोई भूल पाएगा. वहीं लोगों को ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर के लिए भी बहुत भटकना पड़ा. हालांकि केंद्र के अनुसार कोरोना की दूसरी लहर (Second Wave) के दौरान ऑक्सीजन की कमी से एक भी जान नहीं गई है. 

दिलीप कुमार ने दुनिया को कहा अलविदा

इस साल के जुलाई महीने की शुरूआत में यानी 7 जुलाई को बॉलीवुड के जाने माने एक्टर दिलीप कुमार ने दुनिया को अलविदा कह दिया, दिलीप अपने 98 साल की उम्र में कई बीमारियों से पीड़ित थे. उनकी पत्नी सायरा बानो ने कई सालों तक दिलीप का ख्याल रखा था. दिलीप कुमार ने बॉलीवुड को कईं बेहतरीन फिल्में दी हैं. 

ओलंपिक में भारत को मिला गोल्ड मेडल

इस साल टोक्यो में हुए ओलंपिक में भारत ने एक गोल्ड मेडल, 2 रजत और 4 कांस्य मेडल हासिल किए. इस प्रतियोगिता में नीरज चौपड़ा (Neeraj Chopra) ने इतिहास रचते हुए जेवलिन थ्रो में गोल्ड मेडल जीतकर पूरे देश को गौरवांवित किया. इसके अलावा भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने भी 41 साल बाद हॉकी में मेडल हासिल किया. 

किसानों की घरवापसी 

यह साल खास है क्योंकि इस साल के अंत में 378 दिन से चल रहे किसान आंदोलन को खत्म किया गया. केंद्र द्वारा तीन कृषि कानून को वापस लेने के ऐलान के साथ ही  11 दिसंबर को किसानों ने घर लौटना शुरू कर दिया. इस दिन को किसानों ने विजय दिवस के रूप में मनाया. 

हरनाज सिंधू बनी मिस यूनिवर्स

इस साल के दिसंबर महीने में भारत को पूरे दो दशक यानी 21 सालों बाद मिस यूनिवर्स का खिताब दिया गया. दरअसल इस साल 21 साल की हरनाज ने ये ताज अपने नाम किया है. इससे पहले साल 2000 में लारा दत्ता मिस यूनिवर्स बनी थी और उससे पहले पहले सुष्मिता सेन ने ये खिताब अपने नाम किया था. 

सिद्धार्थ शुक्ला के निधन से फैंस को लगा झटका

इस साल बॉलीवुड एक्टर और बिगबॉस के बाद सबके दिलों में बसने वाले सिद्धार्थ का दुनिया को अलविदा कहना उनके फैंस के लिए किसी झटके से कम नहीं था. बिग बॉस 13 के विनर सिद्धार्थ शुक्ला का 2 सितंबर 2021, का महज 40 साल की उम्र में हार्ट अटैक से निधन हुआ. उनकी और शहनाज की जोड़ी को दरेशकों ने खूब पसंद किया है. 

CDS बिपिन रावत का निधन

इस साल को याद करते वक्त देश के बेटे को जरूर याद किया जाएगा. दरअसल साल के आखिरी में 8 दिसंबर को एक दुखद हेलीकॉप्टर दुर्घटना में भारत के पहले सीडीएस बिपिन रावत का निधन हो गया. इस घटना में भारत ने पहले सीडीएस उनकी पत्नी समेत 14 जवानों को खो दिया. 

लखीमपुर खीरी मामला 

किसान आंदोलन को जब भी याद किया जाएगा तो लखीमपुर खीरी कांड को स्मरण कर आपकी आंखे जरूर नम होगी. दरअसल 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर थार गाड़ी चढ़ा दी गई. इस घटना में चार किसानों ने अपनी जान गंवा दी. वहीं हाल ही में इस कांड में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को आरोपी बनाया है. 

ये भी पढें: 

Mumbai Alert: नए साल से पहले मुंबई में खालिस्तानी आतंकी हमले का खुफिया अलर्ट, रेलवे स्टेशन की बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिसवालों की छुट्टियां रद्द

Corona Vaccination: एहतियाती खुराक के तौर पर कौन सा टीका दिया जाएगा? सरकार ने दिया ये जवाब



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here