PM Modi gave advice to his ministers Work with new thinking and new ideas in the new year | नए साल में नयी सोच के साथ करें काम, जानें PM मोदी ने अपने मंत्रियों को और क्या मंत्र दिए

0
10


नए साल में नयी सोच के साथ करें काम, जानें PM मोदी ने अपने मंत्रियों को और क्या मंत्र दिए- India TV Hindi
Image Source : PTI
नए साल में नयी सोच के साथ करें काम, जानें PM मोदी ने अपने मंत्रियों को और क्या मंत्र दिए

Highlights

  • नए विचारों के साथ तेजी से फैसले करें
  • नए आइडियाज के साथ काम करें

नई दिल्ली: नरेंद्र मोदी ने जब से प्रधानमंत्री का पद संभाला है तब से पीएमओ की कार्यशैली तो बदली ही वे अपने मंत्रियों को भी समय-समय कामों को लेकर नसीहत देते रहे हैं। इसी कड़ी में नरेंद्र मोदी ने अपने सभी मंत्रियों को नए साल में नए विचारों के साथ काम करने की सलाह देते हुए तेजी से फैसले लेने की नसीहत दी है। उन्होने अपने मंत्रियों को नए विचारों के साथ काम करने की सलाह देते हुए कहा है कि सभी को अपने-अपने मंत्रालय से जुड़ी योजनाओं को जमीन पर प्रभावी तरीके से लागू करने और देश के लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुंचाने के लिए नए आइडियाज के साथ काम करना चाहिए।

नसीहतें और निर्देश 


सूत्रों के मुताबिक, बुधवार शाम को मंत्रिपरिषद की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कामकाज को लेकर अपने मंत्रियों को कई नसीहतें और निर्देश भी दिए। सूत्रों के मुताबिक, 29 दिसंबर को शाम में हुई मंत्रिपरिषद की बैठक में प्राकृतिक एवं जीरो बजट खेती, गोवर्धन, इथेनॉल ब्लेंडिंग और नैनो उर्वरक पर प्रेजेंटेशन भी दिया गया।

नए विचारों के साथ तेजी से करें फैसले

बैठक में पीएम मोदी ने सभी मंत्रियों को तेजी से काम करने की सलाह देते हुए कहा कि पुराने ढर्रे से काम चलता है, इस सोच से बाहर आकर नए विचारों के साथ तेजी से फैसले करें। उन्होने मंत्रियों से पूछा कि मंत्रालय के कामकाज को जमीन पर उतारने और लोगों तक सरकार के विभिन्न फैसलों का फायदा पहुंचाने के लिए क्या-क्या कदम उठाए गए हैं। मंत्रिपरिषद की पिछली बैठकों में जिन मुद्दों पर चर्चा हुई थी, उन पर प्रगति की जानकारी भी प्रधानमंत्री ने ली।

 नियमित अंतराल पर बैठक

आपको बता दें कि, मंत्रियों के कामकाज की रिपोर्ट लेने के साथ-साथ विचारों के आदान-प्रदान के लक्ष्य को लेकर प्रधानमंत्री मोदी नियमित अंतराल पर अपने मंत्रिपरिषद की बैठक बुलाते रहते हैं। इस बैठक में सरकार के कैबिनेट मंत्रियों और स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्रियों के साथ-साथ सरकार के सभी राज्य मंत्री शामिल होते हैं। बैठक में कामकाज को लेकर अलग-अलग मंत्रालयों की तरफ से प्रेजेंटेशन भी दिया जाता है।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here