More than 10 thousand new corona cases are coming daily across the country health ministry warned-देशभर में रोज़ाना आ रहे हैं 10 हजार से ज्यादा नए कोरोना के मामले, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी चेतावनी

0
3

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल- India TV Hindi
Image Source : ANI/TWITTER
स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल

Highlights

  • 33 दिन बाद एक दिन में 10 हजार कोरोना केस
  • महाराष्ट्र में पॉजिटिविटी रेट 2.3 प्रतिशत पहुंचा
  • पश्चिम बंगाल में पॉजिटिविटी रेट 3.1 प्रतिशत हुआ

देशभर में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में कई राज्यों ने कोरोना पर काबू करने के लिए एक्शन प्लान भी तैयार कर लिया है। दिल्ली में कोरोना को काबू करने के लिए येलो अलर्ट लागू कर दिया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘दक्षिण अफ्रीका में मामलों में बढ़ोतरी के बाद अब फिर से कमी दर्ज़ की जा रही है। पूरी दुनिया में 121 देशों में एक महीने में ओमिक्रोन के 3,30,000 से ज़्यादा मामले और कुल 59 मौतें रिपोर्ट की गई हैं।’

लव अग्रवाल ने आगे कहा, ‘महाराष्ट्र में 9 दिसंबर के हफ़्ते में पॉजिटिविटी 0.76% थी, वो एक महीने में बढ़कर लगभग 2.59% हो गई है। पश्चिम बंगाल में भी 1.61% केस पॉजिटिविटी अब बढ़कर लगभग 3.1% हो गई है। पिछले 33 दिनों बाद देश में फिर से 10,000 से ज़्यादा मामले रिपोर्ट होने शुरू हुए हैं।  महाराष्ट्र और केरल में 10,000 से ज़्यादा सक्रिय मामले हैं। भारत में करीब 90 प्रतिशत एडल्ट को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज़ लग चुकी है।’

लव अग्रवाल आगे कहते हैं, ‘भारत में अबतक 961 कोरोना के मामलों की पुष्टि हुई है। इसमें से 320 मरीज ठीक हो चुके हैं। 8 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत तक नोट की गई है। इसमें मिज़ोरम के छह जिले, अरुणाचल प्रदेश का एक और पश्चिम बंगाल का कोलकाता शामिल है। 14 जिलों में हफ्ते की पॉजिटिविटी रेट 5-10 प्रतिशथ के बीच में है। पिछले हफ्ते की बात करें तो भारत में एवरेज रोज़ाना 8 हजार केस सामने आए थे। ऑवरऑल पॉजिटिविटी रेट 0.92 प्रतिशत तक पहुंच गई थी।’

भारत में बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले-

लव अग्रवाल ने कहा, ’26 दिसंबर से भारत में रोज़ाना 10 हजार केस सामने आ रहे हैं। वैक्सीनेशन के पहले और बाद में भी मास्क का इस्तेमाल करना बहुत जरूरी है। भीड़ लगाने से बचना चाहिए। पहले और अभी ओमिक्रॉन के मरीजों को बराबर इलाज दिया जा रहा है। अभी हमारा पूरा ज़ोर होम आइसोलेशन पर रहेगा। पिछली बार भी होम आइसोलेशन एक मजबूत स्तंब साबित हुआ था। सभी कोरोना वैक्सीन का काम बीमारी के खतरे को कम करना है, कोई भी वैक्सीन बीमारी के फैलने को कम नहीं कर सकती।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here